व्यक्तित्व विकास शिविर का आयोजन

दैनिक व्यवहार में सुधार से निखरता है व्यक्तित्व- प्रो. जैन

लाडनूँ, 9 सितम्बर 2023। जैन विश्वभारती संस्थान के आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय में एक दिवसीय व्यक्तित्व विकास शिविर के साथ ओरिएंटेशन प्रोग्राम रखा गया। शिविर में मुख्य अतिथि कुल सचिव प्रो. बनवारी लाल जैन ने शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य को एक सिक्के के दो पहलु बताते हुए दिनचर्या को व्यवस्थित बनाने पर जोर दिया। उन्होंने व्यवहार में परिलक्षित गुणों से व्यक्तित्व का वास्तविक आकलन मानते हुए यथार्थ के बारे में बताया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य प्रो. आनंदप्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि किसी भी व्यक्ति के जीवन में नियमितता उसकी दैनिकचर्या को व्यवस्थित करती है और व्यवस्थित दैनिकचर्या से व्यक्ति चारित्रिक शुद्धता एवं विनम्रता को धारण करने में समर्थ हो सकता है। उन्होंने चिंतन एवं चरित्र को व्यक्तित्व का आंतरिक घटक मानते हुए दैनिक व्यवहार को व्यक्तित्व का बाह्य घटक बताया। उनके संतुलन को ही एक आदर्श जीवन बताया। विशिष्ट अतिथि प्रो. रेखा तिवारी ने छात्राओं को सद्चरित्र का महत्व बताया और कहा कि अच्छे कर्मों की शुरुआत कभी भी की जा सकती है। उन्होंने प्रसन्नचित मन को सफलता की आधी संभावनाएं बताई। शिविर में नवागंतुक छात्राओं ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। छात्रा नेहा तथा मनीषा ने राजस्थानी नृत्य प्रस्तुत किया। सुनीता काजला एवं ट्विंकल भंसाली ने कविता पाठ किया। भूमिका सेठी, प्रिया जैन तथा आईना ने विचार प्रस्तुत किये। शिविर में डॉ. विनोद कस्वा द्वारा चरित्र निर्माण में प्रेक्षाध्यान की भूमिका का व्यावहारिक पक्ष बताया और अभ्यास करवाया। प्रारम्भ में वरिष्ठ छात्राओं मीनाक्षी भंसाली व कांता सोनीने स्वागत गीत प्रस्जुज किया। स्वागत वक्तव्य अभिषेक चारण द्वारा दिया गया। अंत में श्वेता खटेड़ ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन संचालन शिविर समन्वयक डॉ. प्रगति भटनागर ने किया।

Read 615 times

Latest from