संस्कृत दिवस व रक्षाबंधन पर ली पंच प्रण संकल्प की शपथ

लाडनूँ, 29 अगस्त 2023। जैन विश्वभारती संस्थान के शिक्षा विभाग में रक्षाबंधन, संस्कृत दिवस एवं मेरी माटी मेरा देश अभियान के तहत एक संयुक्त कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें ‘मेरी माटी मेरा देश’ कार्यक्रम के समापन पर सभी विद्यार्थियों तथा संकाय सदस्यों को विभागाध्यक्ष प्रो. बीएल जैन ने पंच प्रण की शपथ ग्रहण में पांच संकल्पों से देश को विकसित भारत के रूप में आगे बढ़ाने, गुलामी की मानसिकता को खत्म करने, भारत की विरासत और विरासत पर गर्व करने, एकता और एकजुटता की ताकत और राष्ट्र के प्रति नागरिकों के कर्तव्यों के साथ भारत को 2047 तक विकसित देश बनाने का संकल्प लिया गया। इस अवसर पर प्रो. जेन ने मन, वचन व कायिक की पवित्रता से जोडने वाला पर्व रक्षाबंधन को बताया तथा इसकी आध्यात्मिक पृष्ठभूमि की जानकारी दी। संस्कृत दिवस होने से उन्होंने संस्कृत भाषा को संसार की प्राचीनतम भाषा बताया तथा भारतीय संस्कृति का स्रोत बताते हुए कहा कि संस्कृत भाषा साहित्य अत्यधिक समृद्ध है। इस अवसर पर मेरी माटी मेरे देश कार्यक्रम के संयोजक डॉ. गिरधारी लाल शर्मा, संस्कृत दिवस के संयोजक डॉ. अमिता जैन एवं रक्षाबंधन कार्यक्रम की संयोजक डॉ. आभा सिंह ने भी विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में विभाग की समस्त छात्राएं उपस्थित रही। अंत में डॉ. गिरधारी लाल शर्मा ने आभार ज्ञापित किया।

Read 669 times

Latest from