जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर एन.एस.एस. द्वारा कार्यक्रम का आयोजन

लड़कियां होती है अनमोल हीरा- सविता राठी

लाडनूँ, 8 मार्च 2021। जैन विश्वभारती संस्थान (मान्य विश्वविद्यालय) की राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) की दोनों इकाइयों के संयुक्त तत्वावधान में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि महिला नैत्री गोपालपुरा सरपंच सविता राठी ने अपने सम्बोधन में एनएसएस स्वयंसेविकाओं को नदी की तरह से निरन्तर आगे बढते रहने की प्रेरणा देते हुए कहा कि राह में बाधक बनने वाले कंकरों को दूर करना ही होता है और अगर चट्टानें भी नदी की राह में आए तो उन्हें वह गोल कर देती है। राठी ने अनुशासन पालन की जरूरत बताते हुए कहा कि दो किनारों के बीच बहने वाली नदी अगर किनारों की मर्यादा को नहीं लांघती है, तो वह जीवनदायी होती है और अगर किनारों के अनुशासन का उल्लंघन कर देती है, तो वह विनाशक बन जाती है। उन्होंने कहा कि परिवार में लड़कियों पर अनेक बंदिशें होती है, जिनको लेकर उनके मन में अनेक भाव आते होंगे, लेकिन उन्हें यह समझना चाहिए कि जो हीरा जितना कीमती होगा, उसकी उतनी ही अधिक निगरानी की जाती है, उन्हें तिजोरियों में बंद रखा जाता है। और लड़कियां तो अनमोल हीरा होती हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए आचार्य कालू कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. आनन्द प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि जिनमें आत्मबल प्रबल होता है, उन्हें प्रगति से कोई नहीं रोक सकता। लैंगिक भेदभाव उनके विकास में बाधक नहीं बन सकता है। उन्होंने देश की प्रधानमंत्री रही इंदिरा गांधी, ब्रिटेन की मार्गरेट थेचर, बनजीर भुट्टो आदि अनेक उदाहरण प्रसतुत करते हुए कहा कि अपनी संकल्प शक्ति के आधार पर वे अपने देश की सुप्रीम पावर बन पाई। कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि प्रो. रेखा तिवाड़ी, प्रगति चैरड़िया, श्वेता खटेड़ ने भी महिला दिवस पर अपने विचार व्यक्त किए। एनएसएस छात्राओं दिव्यता कोठारी, शहनाज बानो, स्नेहा, आयशा सिंह, संतोष, निकिता, महक चैहान, मनीषा तुनगरिया, राधिका गहलोत ने भी अपने विचार व कविताएं प्रस्तुत की। कार्यक्रम के प्रारम्भ में एनएसएस की प्रथम ईकाई की प्रभारी डाॅ. प्रगति भटनागर ने स्वागत वक्तव्य एवं अतिथि परिचय प्रस्तुत किया। एनएसएस की द्वितीय ईकाई प्रभारी डाॅ. बलवीर सिंह चारण ने अंत में आभार ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन नवनिधि दौलावत व इरम छींपा ने किया।

Read 544 times

Latest from